All News > Bihar > Poltics

आज पीएम मोदी का बिहार दौरा::मोतिहारी में स्वच्छाग्रहियो को सम्बोधित करने के साथ कई रेल योजनाओ को दिखाएंगे हरी झंडी .

Updated On: Tue, 10 Apr 2018 14:06:00 GMT

पटना: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार के मधेपुरा के रेल इंजन कारखाने में बने देश के पहले 12,000 हॉर्सपावर (एचपी) के विद्युत चलित रेल इंजन को हरी झंडी दिखाई. इस मौके पर उन्‍होंने कहा कि जो लोग कहते हैं कि इतिहास खुद को दोहराता नहीं है, वो यहां आकर देख सकते हैं कि कैसे 100 वर्ष पहले का इतिहास, आज फिर साक्षात, हमारे सामने खड़ा है. चंपारण की इस पवित्र भूमि पर जनआंदोलन की ऐसी ही तस्वीर सौ वर्ष पहले दुनिया ने देखी थी, और आज एक बार फिर देख रही है. पीएम मोदी ने कहा कि मेरे सामने जो स्वच्छाग्रही बैठे हैं उनमें पूजनीय बापू का अंश मौजूद है, मैं इन स्वच्छाग्रहियों के भीतर उपस्थित बापू के अंश को नमन करता हूं.पीएम मोदी ने कहा कि पिछले सौ वर्ष में भारत की 3 बड़ी कसौटियों के समय बिहार ने देश को रास्ता दिखाया है. जब देश गुलामी की जंजीरों में जकड़ा हुआ था, तो बिहार ने गांधी जी को महात्मा बना दिया, बापू बना दिया.


बिहार में 20 हजार से ज्यादा स्वच्छाग्रहियों को संबोधित करेंगे पीएम मोदी 

पीएम मोदी ने कहा कि स्वतंत्रता के बाद जब करोड़ों किसानों के सामने भूमिहीनता का संकट आया, तो विनोबा जी ने भूदान आंदोलन शुरू किया. तीसरी बार, जब देश के लोकतंत्र पर संकट आया, तो जयप्रकाश जी उठ खड़े हुए और लोकतंत्र को बचा लिया. उन्‍होंने कहा कि मुझे बहुत गर्व है कि सत्याग्रह से स्वच्छाग्रह तक की इस यात्रा में बिहार के लोगों ने एक बार फिर अपनी नेतृत्व क्षमता को दिखाया है.

उन्‍होंने कहा कि नीतीश जी और सुशील जी के नेतृत्व में बिहार ने जो कार्य बीते दिनों करके दिखाया है, उसने सभी का हौसला बढ़ा दिया है. बिहार एक मात्र ऐसा राज्य था, जहां स्वच्छता का दायरा 50% से कम था. लेकिन मुझे बताया गया कि एक हफ्ते के स्वच्छाग्रह अभियान के बाद बिहार ने इस बैरियर को तोड़ दिया. पिछले एक हफ्ते में बिहार में 8 लाख 50 हजार से ज्यादा शौचालयों का निर्माण किया गया है. ये गति और प्रगति कम नहीं है. मैं बिहार के लोगों को, प्रत्येक स्वच्छाग्रही को और राज्य सरकार को इसके लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूं. प्रधानमंत्री ने कहा कि आज जिन योजनाओं का शिलान्यास किया गया, उनमें मोतिहारी झील के जीर्णोधार का प्रोजेक्ट भी शामिल है. हमारा मोतिहारी शहर, जिस झील के नाम पर जाना जाता है, जो चंपारण के इतिहास का हिस्सा है, उसके पुनरुद्धार का कार्य आज से शुरु हो रहा है. 

उन्‍होंने कहा कि सौ वर्ष पूर्व चंपारण में देशभर से लोग आए थे, गांधी जी के नेतृत्व में गली-गली जाकर काम किया था।सौ वर्ष बाद आज उसी भावना पर चलते हुए, देश के अलग-अलग हिस्सों के आए लोगों ने, यहां के उत्साही नौजवानों, स्वच्छाग्रहियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम किया है इससे पहले बिहार की राजधानी पटना पहुंच पीएम मोदी का राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने उनको किताब भेंटकर स्वागत किया.उन्‍होंने कहा कि स्वच्छता का संबंध पानी से भी है. बेतिया को पीने के साफ पानी के लिए जूझना ना पड़े, इसके लिए अमृत योजना के तहत तकरीबन 100 करोड़ रुपए की लागत से वॉटर सप्लाई योजना का शिलान्यास किया है. इसका सीधा लाभ डेढ़ लाख से ज्यादा लोगों को मिलेगा. पीएम ने कहा कि घर या फैक्ट्री के गंदे पानी को गंगा में जाने से रोकने के लिए बिहार में अब तक 3 हजार करोड़ से ज्यादा के 11 प्रोजेक्ट की मंजूरी दी जा चुकी है. इस राशि से 1100 किलोमीटर से लंबी सीवेज लाइन बिछाने की योजना है!.

उन्‍होंने कहा कि गंगा तट के किनारे बने गांवों को प्राथमिकता के आधार पर खुले में शौच से मुक्त बनाया जा रहा है. गंगा किनारे बसे गांवों में कचरे के प्रबंधन की योजनाएं लागू की जा रही हैं ताकि गांव का कचरा नदी में ना बहाया जाए. जल्द ही गंगा तट पूरी तरह खुले में शौच से मुक्त हो जाएगा.!

टिप्पणियां
पीएम मोदी कटिहार- नई दिल्ली सप्ताह में दो बार चलने वाली हमसफर एक्सप्रेस ट्रेन एक नई द्वि-साप्ताहिक ट्रेन को हरी झंडी, मोतिहारी-मुजफ्फरपुर रेल लाइन के विद्युतीकरण कार्य एवं मुजफ्फरपुर-नरकटियागंज रेलवे ट्रैक के दोहरीकरण कार्य की शुरुआत के अलावा मधेपुरा लोकोमोटिव फैक्ट्री द्वारा भारत और फ्रांस के संयुक्त सहयोग से विकसित 12,000 अश्वशक्ति वाला इलेक्ट्रोलिक लोकोमोटिव राष्ट्र को समर्पित किया. आपको बता दें कि लगभग 250 एकड़ क्षेत्र में फैली कारखाने की आधारशिला 2007 में रेल मंत्री लालू प्रसाद ने रखी थी1.




Related News

दंगो की आग में जल रहा बिहार
भागलपुर से शुरू हुई हिंसा अब तक चार जिलों में फैली
कांग्रेस की मजबूरी नहीं, मास्टरकार्ड है यूपी से राज बब्बर की विदाई!
उत्तर प्रदेश में मोदी-शाह के सियासी तिलिस्म को तोड़ने के लिए कांग्रेस ने अपने परंपरागत ब्राह्मण वोट की तरफ लौटने की योजना बनाई है. पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से राज बब्बर ने इस्तीफा दे दिया है. राज बब्बर की यूपी से विदाई कांग्रेस की मजबूरी नहीं बल्कि मास्टरकार्ड माना जा रहा है. राज बब्बर की जगह पार्टी की कमान अब किसी ब्राह्मण चेहरे को सौंपी जा सकती है. बता दें कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी में जान डालने का जिम्मा 2017 विधानसभा चुनाव से पहले राज बब्बर को सौंपा गया था. राज बब्बर ने जमकर पसीना बहाया. इसके बावजूद कांग्रेस की हालत में कोई सुधार नहीं दिखा. सूबे के बदलते सियासी समीकरण के चलते राज बब्बर अब यूपी कांग्रेस अध्यक्ष की कुर्सी पर अनफिट हो गए हैं. इसी के चलते उनसे इस्तीफा लिया जा रहा है. राज बब्बर की अध्यक्ष पद से विदाई के पीछे एक नहीं पांच-पांच वजह हैं.



17:45 21 SIMPLE LIFE HACKS TO LOOK STUNNING

About 15,50,000 results (0.49 seconds) Searc

Crime

तीखी तस्वीरें
More..

Advertisement

Video Gallery

आज भारत बंद में दलितों का प्रदर्शन

Aakhiri Sach Promo

भारत और श्रीलंका (खतरनाक रास्ता)

NORTH KOREA:

Cricket

jquery

linq3

linq2

More..
अभी अभी


Advertisement

Keep In Tounch

Advertisement



Powered By:Shrevan Digital Solutions