बिहार Live: थोड़ी देर में शपथ लेंगे नीतीश कुमार और सुशील मोदी, दोनों राजभवन पहुंचे

पटना: बिहार की राजनीति ने एक बार फिर तेज़ी से करवट बदली है. महागठबंधन की सरकार से इस्तीफ़े के तुरंत बाद नीतीश कुमार को बीजेपी का साथ मिल गया और अब वह दोबारा मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे हैं. सुशील मोदी एक बार फिर बिहार के उप-मुख्यमंत्री बनेंगे. सुशील मोदी शपथ लेने के लिए राजभवन पहुंच चुके हैं. इससे पहले देर रात नीतीश ने बीजेपी विधायकों के साथ राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया. वहीं तेजस्वी यादव ने भी 100 विधायकों के साथ रात में राजभवन तक मार्च किया. राज्यपाल ने उन्हें सुबह 11 बजे मिलने का समय दिया, लेकिन बाद में नीतीश कुमार को सुबह 10 बजे ही शपथ के लिए बुलाकर नीतीश का रास्ता साफ कर दिया, जिससे खफा तेजस्वी ने राज्यपाल के फैसले के खिलाफ कोर्ट जाने की बात कही है. आज शपथग्रहण के बाद एनडीए सरकार को शुक्रवार को विधानसभा में बहुमत साबित करना होगा. इस बीच आज बीजेपी विधायक दल की बैठक होनी हैं, जहां नीतीश को समर्थन और सरकार में शामिल होने की औपचारिकताएं पूरी की जाएंगी. इसके लिए बीजेपी ने पर्यवेक्षक के तौर पर केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा और अनिल जैन को पटना भेजा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भी नीतीश कुमार के शपथग्रहण में शामिल होने की ख़बर है.

पीएम मोदी भी हो सकते हैं शपथ ग्रहण में शामिल
कहा जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हो सकते हैं. केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा और बीजेपी महासचिव अनिल जैन आज (गुरुवार को) पटना आएंगे. बिहार में जेडीयू के 71 विधायक हैं और बीजेपी के 53, ऐसे में दोनों पार्टियां मिलकर आसानी से बहुमत का आंकड़ा पार कर लेती हैं. बिहार में बहुमत का आंकड़ा 122 है और दोनों पार्टियों के 124 विधायक हो रहे हैं.
तेजस्वी यादव ने इस पूरे घटनाक्रम पर कहा कि मैंडेट के मुताबिक- सरकार बनाने का दावा पेश करने का जिम्मा हमारा था. राज्यपाल ने हमें 11 बजे मुलाकात का समय दिया था. थोड़ी देर बाद खबर आई कि सुबह 10 बजे शपथग्रहण होगा. जनता के सामने माफी मांगनी चाहिए. राज्यपाल को अपनी भूमिका साफ करनी चाहिए. हम संविधान के तहत राज्यपाल से शपथग्रहण रोकने की मांग करते हैं. हम कोर्ट जाएंगे, हम हर तरह की क़ानूनी सलाह ले रहे हैं. JDU में सामाजिक न्याय को माननेवाले लोग आज RJD-कांग्रेस के साथ हैं. JDU में सामाजिक न्याय को माननेवाले लोग आज RJD-कांग्रेस के साथ हैं. अन्याय हो रहा है, लोकतंत्र की हत्या हो रही है. बिहार की जनता ने जो मैंडेट दिया था, उसके साथ धोखा हो रहा है. हम हाथ पर हाथ धरे नहीं बैठेंगे. मुझे मोहरा बनाया गया, तेजस्वी बहाना था, उन्हें बीजेपी के साथ जाना था.

बहुमत का आंकड़ा
बिहार विधानसभा का वह आंकड़ा बताते हैं जिससे बीजेपी-जेडीयू की सरकार आसानी से बन जाएगी. बिहार में जेडीयू के 71 विधायक हैं और बीजेपी के 53, ऐसे में दोनों पार्टियां मिलकर आसानी से बहुमत का आंकड़ा पार कर लेती हैं.
बिहार में बहुमत का आंकड़ा 122 है और दोनों पार्टियों के 124 विधायक हो रहे हैंहम राज्य में मध्यावधि चुनाव के पक्ष में नहीं 
सुशील मोदी बिहार में नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने सुशील मोदी से बात की. सुशील मोदी ने अपने घर 1-पोलो रोड पर बीजेपी विधायकों की आपात बैठक बुलाई. इस बैठक के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी ने कहा कि हम राज्य में मध्यावधि चुनाव के पक्ष में नहीं हैं. हम चाहते हैं कि जो भी विधायक जीत कर आए हैं, वे पांच साल का कार्यकाल पूरा करें. दरअसल, तेजस्वी के खिलाफ लगे आरोपों को लेकर सत्तारूढ़ महागठबंधन के घटक दल जदयू और राजद के बीच काफी समय से गतिरोध चल रहा था..

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *