GA4

बेटा पत्रकार, माँ से लिखवाना बेबुनियाद एससी एसटी एक्ट का एफ आई आर नेता व पत्रकार नें लूटी वाहवाही घटना छल व प्रपंच पर आधारित।

Spread the love

बदायूं: उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले की एक खबर सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है जिसमें बताया जा रहा है कि एक दलित महिला को मंदिर में प्रसाद चढ़ाने से रोक दिया गया। इस खबर को नेताओ और पत्रकारों द्वारा भी खूब शेयर किया जा रहा है।

घटना में नेत्रपाल यादव और शेशपाल यादव को आरोपी बनाया गया है। परंतु जब हमारी टीम बदायूं जिले के अलोहा गांव पहुंची तो मामला बिल्कुल विपरीत प्रदर्शित हुआ।

ग्रामीणों ने बताया कि कथित पीड़ित महिला और उसका बेटा दोनों मंदिर में रोजाना पूजा करने के लिए आते हैं जबकि उसी के समुदाय के अन्य बहुत से लोग भी मंदिर में प्रसाद चढ़ाते हैं। कथित पीड़ित महिला ने खुद भी दावा किया कि वह भगवान की परिक्रमा कर रही थी और किसी ने भी उसे ऐसा करने से नहीं रोका।

घटना में आरोपी बनाए गए युवक ने हमारे प्रतिनिधि को बताया कि “वह परिक्रमा कर रही थी और फूल नीचे छत पर फेंके जा रही थी जो कि मंदिर में आने वाले अन्य भक्तो के पैरो में गिर रहे थे। इसी दौरान एक भक्त ने महिला को फूल फेंकने से रोका क्योंकि के फूल उनके पांवों में आ रहे थे, बस केवल इतनी ही बात हुई थी।”

ग्रामीणों ने ये भी बताया कि महिला ने न केवल भगवान को प्रसाद चढ़ाया अपितु अग्नि में हवन सामग्री डालकर यज्ञ भी किया था।

ग्रामीणों ने आगे बताया कि “मंदिर में आए भक्तों ने जब महिला को फूल फेंकने से रोका तो उसका बड़ा बेटा जो कि वहीं महिला के साथ परिक्रमा दे रहा था, ने भक्तों को अपशब्द कहे जिस पर उसे रोक दिया गया। कथित आरोपियों ने महिला और उसके बेटे को केवल मंदिर प्रांगण में अपशब्दों को इस्तेमाल करने से रोका।” ग्रामीणों के अनुसार वे अपने यज्ञ अनुष्ठान बर्बाद नहीं होने देना चाहते थे, इसीलिए उन्होंने महिला को यज्ञ की अग्नि में हवन सामग्री डालने के लिए कहा।

सफेद भवन जहां परिक्रमा चल रही थी

महिला ने राजनीतिक द्वेष के कारण मुकदमा दर्ज करवाया।

तकरीबन सैकड़ों लोगों ने हमारे प्रतिनिधि को बताया की महिला ने राजनीतिक द्वेष के चलते एससी एसटी एक्ट लगाया है। चूंकि घटना में आरोपी बनाया गया युवक पिछले पंचायत चुनाव में प्रधान पद प्रत्याशी था। उधर महिला का छोटा बेटा पत्रकार है, जिसने महिला को झूठा मुकदमा दर्ज करवाने का दवाब बनाया ताकि उसे एक विस्फोटक हेडलाइन मिल सके।

गवाह ने घटना को बताया गलत।

घटना में गवाह बनाए गए दो व्यक्तियों ने मामले को असत्य बताया कि महिला अपने निजी लाभ और द्वेष के चलते एससी एसटी एक्ट का दुरुपयोग कर रही है। यद्यपि पुलिस ने एससी एसटी एक्ट के विभिन्न सेक्शन के तहत मामला दर्ज कर लिया है, और जांच शुरू कर दी है जिसमें मामला प्रथम दृष्टया झूठा प्रतीत हो रहा है।

एप पर पढे़ं

Please Save

www.aakhirisach.com

आज एक मात्र ऐसा न्यूज़ पोर्टल है जोकि “जथा नामे तथा गुणे के साथ” पीड़ित के मुद्दों को पुरजोर तरीके से उठा कर उनकी आवाज मुख्य धारा तक ले जा रहा है।

हाथरस केस से लेकर विष्णु तिवारी के मामले पर निष्पक्ष पत्रकारिता से आखिरी सच टीम के दिशा निर्देशक ने अपना लोहा फलाना दिखाना समाचार पोर्टल पर मनवाया है। सवर्ण, पिछड़ी एवं अल्पसंख्यक जातियों का फर्जी SC-ST एक्ट के मामलों से हो रहे लगातार शोषण को ये कुछ जमीन के आखिरी व्यक्ति प्रकाश में लाए हैं।

यह पोर्टल प्रबुद्ध व समाज के प्रति स्वयंमेव जिम्मेदारों के द्वारा चलाया जा रहा है जिसमे आने वाले आर्थिक भार को सहने के लिए इन्हे आज समाज की आवश्यकता है। इस पोर्टल को चलाये रखने व गुणवत्ता को उत्तम रखने में हर माह टीम को लाखों रूपए की आवश्यकता पड़ती है। हमें मिलकर इनकी सहायता करनी है वर्ना हमारी आवाज उठाने वाला कल कोई मीडिया पोर्टल नहीं होगा। कुछ रूपए की सहायता अवश्य करे व इसे जरूर फॉरवर्ड करे अन्यथा सहायता के अभाव में यह पोर्टल अगस्त से काम करना बंद कर देगा। क्योंकि वेतन के अभाव में समाचार-दाता दूसरे मीडिया प्रतिष्ठानों में चले जाएंगे। व जरूरी खर्च के आभाव में हम अपना काम बेहतर तरीके से नही कर पायेंगे।

UPI : aakhirisach@postbank

Paytm : 8090511743

Share
error: Content is protected !!