GA4

गया के गहर पुर में पुलिस रिकार्ड में पंजीकृत टेम्पो चोर दलितों नें 10 से 15 वर्षीय सवर्ण बच्चों पर एससी एसटी ऐक्ट का मुकदमा।

Spread the love

एससी – एसटी (SC-ST) की वकालत करने वाले लोग कहते हैं कि इस एक्ट को दलित और आदिवासी समुदाय के लोगों के अधिकारों का हनन ना हो इसलिए लाया गया था, दलित नेता ये दलील देते हैं कि दलितों पर जातीय अत्याचार ना हो इसलिए इस कानून को लाया गया था लेना इस कानून के फायदे से ज्यादा इसके दुरुपयोग होते हैं।

बिहार के गया जिले के टेकारी थानाक्षेत्र के अंतर्गत ग्रामपंचायत महामनापुर गहरपुर गाँव में 12 से 15 वर्षीय बच्चों के खिलाफ दलित वर्ग के लोगों ने SC-ST एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज करवाया है, एफआईआर में ये दावा किया है कि सवर्ण समाज से आने वाले कुछ बच्चों ने जिनकी उम्र 12 से 15 वर्ष के लगभग है, उन्होंने एक दलित परिवार के घर में मारपीट, लूटपाट एवं तोड़फोड़ किया है।

शिकायत करने वाले दलित परिवार ने दलील दिया है कि सवर्ण बच्चों के एक समूह ने उनके घर पर धावा बोलकर उनके परिजनों के साथ मारपीट किया फिर लाखों के गहने लूट लिए और उनके घरो में तोड़फोड़ किया है।

जिन बच्चों पर SC-ST एक्ट के तहत मुकदमा किया है उनमें एक बच्चे का नाम रोहित है जिसकी उम्र महज 12 वर्ष है, वर्ष 2018 से उसके हाथ में चोट लग जाने के कारण उसका एक हाथ काम भी नहीं करता है, उस बच्चे पर महंगे जेवर चुराने का और मारपीट का आरोप लगाना बेहद ही हास्यास्पद लगता है।

दूसरे बच्चे का नाम रितेश है जो अभी छठी क्लास में पढ़ाई करता है, तीसरे बच्चे का नाम अमन है जो हाल में ही दसवीं की परीक्षा दिया है। इन मासूम बच्चों के खिलाफ दलित वर्ग के लोगों ने एस-सी -एस टी के तहत मुकदमा दर्ज करवाया है।

जबकि आखिरी सच समाचार पोर्टल टीम की पड़ताल में यह मुद्दा ठीक उलट निकला उपरोक्त एससी एसटी ऐक्ट से पीड़ित बच्चे दौड़ने गये थे जिन्हें अनु पासवान व रोहित पासवान व साथियों नें रास्ते में रोंककर गाली गलौज व मारपीट किया, जबकि उक्त बच्चों नें कोई विवाद नही किया है। जबकि अनू पासवान पर पूर्व में टेम्पो चोरी जैसे संगीन अपराध पहले से पंजीकृत है। व अनू भीम आर्मी से जुड़ा हुआ है।

 

इन बच्चों के माता – पिता अपने बच्चों के खिलाफ मुकदमे दर्ज होने के बाद बेहद परेशान और कहते हैं कि साजिशन इन मासूम बच्चों को फंसाया जा रहा है। खेल और पढ़ाई के उम्र में इन बच्चों को अब पुलिस का भय सता रहा है, ये बच्चे बतलाते हैं कि इनपर मुकदमे करने वाले लोगों से उनकी बहस हो गयी थी, बच्चों का कहना है कि शिकायत करने वाले लोग नशे की हालत में थे, और जेल में भी रह चुके हैं, ये खुद पेशेवर अपराधी हैं और जानबूझकर उनके परिवार को परेशान करने के लिए ये साजिशन मुकदमा दर्ज किया है।

जिस एक्ट के खिलाफ देश के सर्वोच्च न्यायालय भी सवाल उठा चुका है उस एक्ट को गैर दलितों  के खिलाफ जुल्म करने व उनकी परिसम्पत्तियों को हड़पनें के लिए खुलेआम एक हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है, और अब इसका शिकार बच्चे भी होने लगे हैं।

सहयोग करें हम देशहित के मुद्दों को आप लोगों के सामने मजबूती से रखते हैं। जिसके कारण विरोधी और देश द्रोही ताकत हमें और हमारे संस्थान को आर्थिक हानी पहुँचाने में लगे रहते हैं। देश विरोधी ताकतों से लड़ने के लिए हमारे हाथ को मजबूत करें। ज्यादा से ज्यादा आर्थिक सहयोग करें। aakhirisach@postbank

Paytm, Phonepe, Google pay too @ 8090511743

Share
error: Content is protected !!