GA4

बदलापुर एसएचओ, दबंग पर मेहरबान, दबंग के एसपी रिश्तेदार की हनक, रिटायर्ड कर्मी परिवार को किया जा रहा प्रताड़ित।

Spread the love

कार्यालय सवांदाता) जौनपुर – उत्तर प्रदेश , ग्राम उदपुर गेल्हूआ तहसील बदलापुर जनपद जौनपुर में एक वृद्ध परिवार को पट्टीदारों द्वारा प्रताड़ित करने का मामला प्रकाश में आया है।

विज्ञापन
विज्ञापन

इसे भी पढ़ें:संभ्रांत परिवार पर पुलिस अधीक्षक के मवाली रिश्तेदारों का नियोजित कहर शौचालय पर जड़वाया ताला, परिवार न्याय के लिये भटकने को विवश।

https://aakhirisach.com/wp-content/uploads/2022/02/IMG-20220222-WA0011.jpg
  • पीड़ित सत्यनारायण सिंह वर्ग – 1 के रिटायर्ड अधिकारी महाराष्ट्र सरकार के हैं। अवकाश प्राप्त करने के बाद उन्होंने गांव में रहकर शांतिपूर्वक अपना जीवन बिताने की सोची और 4 फरवरी 21 को अपने पैतृक गांव अपने समस्त सामानों के साथ आ गए, जो कि उनके पट्टीदारों शेषनारायण सिंह और उनके दबंग प्रवृति के पुत्रों अमित सिंह और अनीश सिंह को बहुत ही नागवार लगा क्यों कि वो लोग उनके दरवाजे के सहन एवम खेतों आदि पर अपना अवैध अधिपत्य जमाये बैठे थे।

इसे भी पढ़ें: रिटायर ए श्रेणी कर्मचारी के परिवार पर भारी एसपी हमीरपुर की बुआ का परिवार, क्षत्रिय बनाम क्षत्रिय, शरीफ का जीना हुआ दुश्वार। 


      इनलोगों ने सत्यनारायण सिंह उनकी वृद्ध पत्नी और एक पुत्री जो कि PCS की तैयारी कर रही हैं, का जीना दूभर कर दिया है, सत्यनारायण सिंह का परिवार गवइं राजनीति नही जानता, उक्त पट्टीदारों ने उन लोगों से मारपीट किया, उनकी बेटी के साथ दुर्व्यवहार किया उनकी पत्नी हार्ट की पेशेंट हैं उनके मुह से प्रेशर बढ़ने के कारण ब्लड आ गया किसी प्रकार उनकी जान बची।

विज्ञापन
विज्ञापन

उक्त न्यूज संबंधी जरूरी वीडियो लिंक यहां उपलब्ध है।

 

 

         सत्यनारायण सिंह ने मुकामी थाने पर तहरीर भी दिया जिसपर मुकदमा दर्ज करने की जगह मुकामी थाना उँन्हे गोल गोल घुमाता रहा, फिर मु० संख्या 049/21 हल्की फुल्की धाराओं में दर्ज किया उसमें लड़कीं के साथ हुए दुर्व्यवहार को दर्ज नही किया।

        कारण बताया जाता है कि शेषनारायण सिंह के रिश्तेदार — नरेंद्र सिंह SP हैं और घटना के समय वो हमीरपुर के SP थे, मुकामी थाना SP साहब के दबाव में है, जब भी सत्यनारायण मुकामी थाने के SO से बात करते हैं तो वो उनका मजाक उड़ाते हैं और कहते हैं कि ट्वीटर और सोशल मीडिया पर शिकायत करते रहो।

अपना पल्ला झाड़ कर मुकामी पुलिस ने मामले को रेवेन्यू विभाग का बता दिया, किन्तु प्रश्न ये है कि जो मारपीट, आये दिन धमकी, बच्ची की शिक्षा में व्यवधान डालना और रात में उनके दरवाजे पर गाली गलौज करना, ये तो पुलिस विभाग को देखना है इसमे रेवेन्यू क्या करेगा?

और रेवेन्यू के कोई अधिकारी मौके पर सत्यनारायण सिंह का कब्जा नही दिला पा रहे हैं, सिर्फ कागजी आदेश पारित कर अपना पीछा छुड़ा रहे हैं, मौके पर कोई संतोषजनक कार्य अबतक नही हुआ।

          ऐसी स्थिति में सत्यनारायण सिंह के परिवार पर उक्त दबंगों द्वारा लगातार खतरा बना हुआ है , लगता है साशन प्रसाशन को किसी गम्भीर और बड़ी घटना का इंतज़ार है ।

International Council Of Investigative Journalists के स्टिंगर्स को सत्यनारायण सिंह ने अपना बयान भी दिया, काउंसिल के चीफ एडमिनिस्ट्रेटर – अभयकांत मिश्र (अधिवक्ता माननीय सुप्रीम कोर्ट) और डायरेक्टर डॉ ए के पांडेय ने उत्तर प्रदेश सरकार तथा DGP UP से मांग की है कि उपरोक्त प्रकरण को संज्ञान में लेकर पीड़ितों की जीवन रक्षा करें।

 

और रेवेन्यू के आदेशों का सख्ती से पालन करवाएं जिससे पीड़तों को न्याय मिले।
योगी जी के भ्र्ष्टाचार मुक्त शासन में इतना बड़ा भर्ष्टाचार अशोभनीय है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!