GA4

झूठे SCST एक्ट लगवाने की धमकियां, सवर्णो की जमीनें हथियानें वाले बहरूपिया ठग की साजिश का शिकार, सगा ब्राह्मण भाई।

Spread the love

 

ICIJ ने लिया संज्ञान : कहा मामला गंभीर

        बिहार/पटना (राहुल कुमार- पटना ब्यूरो) इन दिनों बिहार के जिला गोपालगंज में एक ScSt एक्ट के दुरुपयोग की घटनाएं सामने आ रही हैं। आपको यहां बता दें की उक्त घटनाओं को सामान्य वर्ग के ही कुछ लोगों द्वारा अंजाम दिया जा रहा है। बताया जा रहा है की सामान्यवर्ग के कुछ लोग दलित समाज के कुछ गरीब लोगों की मजबूरी का फायदा उठाकर उनसे समान्यवर्ग के लोगों पर ScSt लगवाने की धमिकियाँ देकर ScSt एक्ट को हथियार की तरह इस्तेमाल करते हैं।

विज्ञापन
विज्ञापन

       यह लोग एक गैंग की तरह काम करते हैं, जिसका सरगना मुन्ना मिश्र नामक बहरूपिया ठग बताया जा रहा है। मुन्ना मिश्र पर पहले भी कई मामले चल रहे हैं।

 

https://aakhirisach.com/wp-content/uploads/2022/02/IMG-20220222-WA0011.jpg
दलितों को आगे करके कब्जा करवाने और scst एक्ट में फंसाने की धमकी देने वाला मुन्ना मिश्र का फाइल चित्र

विज्ञापन द्वारा अजय प्रजापति 7518148156

     जमीने हथियाने के लिए ScSt के दुरुपयोग की मुन्ना मिश्र द्वारा जलाई आग आज उसके खुदके घर तक पहुंच गई है।

             जी हां मुन्ना मिश्र की गंदी निगाह अब उसके खुद के सगे भाई की जमीन पर पड़ गई है। जिस कारण मुन्ना मिश्र अपने भाई व उसके परिवार पर भी वही टोटके इस्तमाल कर रहा है, जिसमे उसे महारत हासिल हो चुकी है।

Please order and get 10 percent discount only for www.aakhirisach.com readers.

      सरगना मुन्ना मिश्र द्वारा कुछ दलितों से मिल कर सवर्णो पर ScSt एक्ट लगाने की धमिकियाँ देकर पहले तो उन्हें कानूनी दाँवपेच में फंसा दिया जाता है, फिर मौके का फायदा उठाकर उस बेचारे सवर्ण की जमीन पर अपने गुंडों की मदद से कब्जा कर लिया जाता है।

          लेकिन इस बार मुन्ना मिश्र नामक ठग का दिल अपने ही सगे भाई की जमीन पर आ गया है। जिसे ठग मुन्ना ने जाली दस्तावेजों की मदद से बेचना शुरू कर दिया है। जिसकी मुन्ना मिश्र के भाई ब्रजकिशोर मिश्रा ने गोपालगंज के एस. पी.को एक लिखित शिकायत भी दी है। जिसमें उन्होंने कहा है कि हम आपस में चार भाई है। जिसमे से एक भाई जिसका नाम दिग्विजय नाथ मिश्रा है ने बिना आपसी बटवारा के पैतृक संपत्ति में हम सभी का हिस्सा जबरदस्ती बेच रहा है।पैतृक संपत्ति में उसका जितना हिस्सा होना चाहिए उसमे से तीन गुना ज्यादा हिस्सा बेच चुका है और रोकने पर गाली गलौज करता है और करवाता है।

पीड़ित ब्रजकिशोर मिश्रा का फाइल चित्र

इसके इलावा उन्होंने शिकायत में कहा कि जमीन लिखवाने में से कुछ अनुसूचित जाति के लोग भी है जिनसे मुन्ना मिश्र और उनके लड़के बराबर धमकी दिलवाते रहते है की वे हम लोगो पर SCST एक्ट और छेड़खानी के मुकदमे में फंसा कर हम लोगो को जेल भेजवा देंगे जिससे हम और हमारा परिवार भय के माहौल में जी रहे है।

      श्री ब्रजकिशोर मिश्रा ने अपनी शिकायत में आगे कहा कि साजिश और अवैध रूप से मेरा जमीन खरीदने वालो में से एक टुनटुन वास्फोर,पुत्र स्व० विपत वास्फोर,सिसई थाना बरौली जिला गोपालगंज के द्वारा मेरे जमीन पर जबरदस्ती कब्ज़ा करने और उस पर पालनी,सूअर का खोबार रखने पर मना करने पर टुनटुन वास्फोर द्वारा बरौली थाना, एसपी गोपालगंज एवं अन्य कार्यालय में मारपीट करने एवं छेड़खानी करने की गलत आवेदन दिया गया है जो जांच में भी गलत पाया गया था। मेरा जमीन जो इनलोगों ने अवैध रूप से कब्जा किया हुआ है उसका फ़ोटो भी साथ संलग्न है।

कब्जा की हुई जमीन

 

       उक्त जमीन मेरे घर के पास है। और हम लोगो को परेशान करने के नियत से मुन्ना मिश्र टुनटुन वास्फोर से बेच दिए। इस तरह से दिग्विजय नाथ मिश्रा उर्फ़ मुन्ना मिश्रा ने साज़िश के तहत अधिक पैतृक सम्पत्ति बेच कर उनलोगों के द्वारा मुझ पर कोर्ट में केस कराने की धमकी बराबर दी जा रही है। इन सभी घटनाओं में दिग्विजय नाथ मिश्रा और उनके दोनों लड़कों के द्वारा अहम् योगदान दिया जा रहा है। जिस कारण अवैध रूप से जमीन कब्जा करने वाले लोगों का मनोबल बढ़ा हुआ है।

      ब्रजकिशोर ने कहा कि हम लोगो के बीच सिविल कोर्ट गोपालगंज में बटवारे का केस भी चल रहा है जिसमे दिग्विजय नाथ मिश्रा एक्सपार्टी हो गए है और उस आदेश के खिलाफ माननीय उच्च न्यायलय पटना में अपील भी किये है। परंतु फिर भी अपने आदत से बाज़ नही आ रहे हैं।असल मे दिग्विजय नाथ मिश्र और उनके लड़कों का यह पेशा ही बन गया है और ये लोग हम जैसे निर्दोषों को फंसाकर अपनी नाजायज कमाई कर रहे है। इनके इस कृत से मुझे मानसिक और आर्थिक परेशानी एवं सामाजिक मानहानि हो रहा है। शिकायत में श्री ब्रजकिशोर मिश्रा ने अनुरोध करते हुए कहा कि मेरे जमीन पर बिना अधिकार और बिना मेरे अनुमति के किया गया अवैध और अनिधिकृत कब्ज़ा से मुक्त करवाया जाये और साथ ही दिग्विजय नाथ मिश्र, उनके दोनों लड़के वेदांत और अनुपम मिश्र ,टुनटुन वास्फोर और उनके साथियों पर अपराधिक साजिश के तहत हथियार लाठी और डंडा के बलपर मेरा जमीन छीनकर जबरदस्ती कब्ज़ा करने और मुझे और मेरे परिवार को SCST एक्ट के झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी देने का एफआईआर दर्ज कर उन सभी के खिलाफ क़ानूनी कार्यवाही किया जाए।

पीड़ित द्वारा दिया गया शिकायत पत्र (1)
पीड़ित द्वारा दिया गया शिकायत पत्र (2)

श्री ब्रजकिशोर ने एस.पी. साहिब को दी शिकायत की प्रतिलिपियाँ बिहार पुलिस के आलाधिकारियों और बिहार राज्य ह्यूमन राइट्स कमिसन को भेज कानूनी कार्यवाही की मांग किया है और साथ ही SCST एक्ट के झूठे मुकदमों में फँसाये गए लोगो को कानूनी मदद करने वाली संगठन आरक्षण संघर्ष समन्वय समिति को भी भेज मदद की गुहार लगाई हैं। आरक्षण संघर्ष समन्वय समिति के राष्ट्रीय मुख्यमहासचिव श्री के के झा ने हमे बताया कि शिकायत पत्र मिलते ही मैंने शिकायतकर्ता श्री ब्रजकिशोर मिश्र से बात कर उनसे पूरा वेरवा लेकर उन्हें मदद का आश्वासन दिया और उनके शिकायत पत्र को लीगल सेल को कार्यवाही हेतु भेज दिया गया है।

    आपको यहां बता दें कि हाल में एसटी आयोग के अध्यक्ष डॉ. रामबाबू हरित ने कहा कि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति से संबंधित मुकदमों के लिए सवर्ण जिम्मेदार हैं। पेशे से एमबीबीएस चिकित्सक और भाजपा नेता डॉ. रामबाबू हरित बीते जून माह में ही एससी-एसटी आयोग के अध्यक्ष बनाये गये हैं। वे भाजपा की राजनाथ सिंह सरकार में स्वास्थ्य राज्य मंत्री भी रह चुके हैं। डॉ बाबू राम ने कहा था कि इसका कारण यह है कि सवर्णो के यहां एससी-एसटी जाति के लोग काम करते हैं। जब सवर्ण आपस में लड़ते हैं तो अपने यहां काम करने वाले एससी-एसटी जाति के लोगों से दूसरे पक्ष पर मुकदमा दर्ज करवा देते हैं। अगर ऐसा न हो तो एससी-एसटी के मुकदमों में कमी आ जाए। उक्त बयान उन्होंने बृहस्पतिवार को जौनपुर के पीडब्ल्यूडी डाक बंगले में प्रेसवार्ता के दौरान दिया।

प्रेसवार्ता दौरान एसटी आयोग के अध्यक्ष डॉ. रामबाबू हरित

इसी वजह से इस केस में International Council Of Investigative Journalists (ICIJ) विशेष रुचि दिखा रहा है।

 इस मामले में इंटरनेशनल कौंसिल ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट ने विशेष रुचि ली है और अपने इंवेस्टिगेटर्स लगाकर मामले को पूर्ण रूप से उजागर करना, तथा इसमे उक्त जालसाज के साथ मीली भगत रखने वाले कुछ अधिकारियों को भी एक्सपोज़ करने की व्यवस्था की है । जो देश और जनता के सामने लाया जा सके कि किस प्रकार बेईमानी और कुछ ऐक्ट्स का दुरूपयोग किया जा रहा है । ICIJ के अधिकारी श्री साहिल गुप्ता ने बताया कि हाल ही में SCST आयोग के अध्यक्ष का बयान आया था कि सवर्ण ही दलितों को आगे करके सवर्णो पर SCST एक्ट का मुकदमा करवाते है। अगर उस बयान के मद्देनजर इस मामले को देखा जाए तो यह साफ हो जाता है कि यह मामला गंभीर है।

राहुल कुमार-पटना ब्यूरो चीफ आखिरी सच

Please Donate us your little kind bit at least Rs.  1/- Per Day/ Week or Month as you like..

UPI …….. 8090511743

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!