GA4

जेल में बंद माफिया सुभाष ठाकुर समेत छह पर दर्ज मुकदमा चंद घंटे में हुआ खतम, जांच में निकला फर्जी, एसएचओ लाइन हाजिर।

Spread the love
सुभाष ठाकुर, धीरज तिवारी।
सुभाष ठाकुर, धीरज तिवारी

माफिया सुभाष ठाकुर सहित छह के खिलाफ वाराणसी के सारनाथ थाने में शुक्रवार को धमकी, आपराधिक षणयंत्र सहित अन्य आरोपों में दर्ज मुकदमा कुछ ही घंटे के बाद शाम में स्पंज (निरस्त) कर दिया गया। सारनाथ के लेढूपुर के रहने वाले धीरज तिवारी की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया था। छह माह पूर्व भी धीरज ने माफिया सुभाष ठाकुर समेत तीन पर चेतगंज थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। उधर शाम को ही पुलिस आयुक्त ने सारनाथ एसएचओ नागेश सिंह को लाइन हाजिर कर दिया।

धीरज का आरोप है कि उसी मुकदमे को लेकर सुभाष ठाकुर के इशारे पर मुझे मारने के लिए तीन शूटरों को लेढूपुर स्थित घर पर भेजा था। पुलिस के मुताबिक लगाए गए आरोप जांच में निराधार और मनगढ़ंत पाए गए।

सुभाष पर मुकदमा दर्ज कराने के बाद धीरज को सुरक्षा मुहैया कराई।

सारनाथ थाना क्षेत्र के लेढूपुर निवासी और बसपा के पूर्व नेता धीरज तिवारी का एक मकान चेतगंज थाना अंतर्गत जगतगंज में भी है। गंगापुर स्थित एक कॉलेज से लॉ की पढ़ाई करने वाले धीरज के अनुसार चार मार्च 2021 को माफिया सुभाष ठाकुर समेत तीन के खिलाफ धमकी समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया था। इसी मुकदमे के बाद से पुलिस ने धीरज को सुरक्षा मुहैया कराई है।
धीरज के अनुसार गुरुवार को गांव पर था, इसी बीच सफेद रंग की अल्टो कार से तीन लोग पहुंचे और किरायेदार हिमांशु यादव से पूछे कि यहां पुलिस क्यों तैनात है। इसके बाद तीनों आगे निकल गए। हिमांशु ने फोन करके मुझे जानकारी दी कि तीन अनजान लोग पूछ रहे हैं और घर से दो सौ मीटर दूरी पर है। उनका फोटो खींचने और वीडियो बनाने के लिए मेरे कहने पर हिमांशु उनके पीछे गया तो तीनों ने हिमांशु को देख लिया और पिस्टल लेकर दौड़ा लिया। किसी तरह वह बचाकर घर आया। धीरज का आरोप है कि हत्या की नियत से ही तीन शूटरों को भेजा गया था। इसके पीछे जेल में बंद माफिया सुभाष ठाकुर, उसका भांजा रमाकांत सिंह मिंटू, टिंकू राय, कृपाशंकर राय, विद्यासागर राय और एक अज्ञात की साजिश है।

तीन मार्च को मिली थी धमकी, चेतगंत में दर्ज है मुकदमा।

बसपा के पूर्व नेता धीरज तिवारी के अनुसार तीन मार्च 2021 को जगतगंज स्थित मकान पर था और सुबह में संपूर्णानंद संस्कृत यूनिवर्सिटी परिसर में टहलने निकला तो पल्सर सवार दो युवकों ने रोक लिया। इसके बाद पीछे बैठे युवक ने कान पर फोन सटा दिया। उधर से आवाज आई कि सुभाष ठाकुर बोल रहा हूं। दो युवकों का नाम लेकर उन्होंने कहा कि उनकी पैरवी न करो। अन्यथा पैरवी करने के लिए जिंदा नहीं रहोगा। अंतिम वार्निंग है। धीरज के अनुसार इसके बाद ही चेतगंज थाने में धमकी का मुकदमा सुभाष ठाकुर व दो अज्ञात बाइक सवारों पर दर्ज कराया गया था। इसके बाद सुभाष ठाकुर के भांजे रमाकांत और टिंकू राय लगातार धमकी देते रहे हैं।पुलिस आयुक्त सतीश ए गणेश ने बताया कि घटना की रात एसीपी सारनाथ और एसएचओ सारनाथ मौके पर गए थे। सीसीटीवी फुटेज और आसपास लोगों से पूछताछ के दौरान ऐसा कोई मामला नहीं पाया गया। इसलिए जांच करते हुए मुकदमा को स्पंज कर दिया गया।

Please Donate us your little kind bit at least Rs.  1/- Per Day/ Week or Month as you like..

aakhirisach@postbank

Donation

https://aakhirisach.com/wp-content/uploads/2022/02/IMG-20220222-WA0011.jpg
Share

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!