GA4

स्वाती की दिव्यांगता बनी उसकी उन्नति में बाधा, सरकारी दिव्यांगता इमदाद कहां व किसके लिये, शायद भारतीय लोकतंत्र में योग्य होना ही विकास की बाधा।

Spread the love


अक्सर कहा जाता है कि जीवन में पढ़ना-लिखना बहुत जरूरी है, क्योंकि इसी से एक बेहतर जीवन मिलता है। लेकिन कुछ लोगों के लिए परिस्थितियां इतनी विपरीत हो जाती हैं, कि उनकी शिक्षा भी उनके काम नहीं आती। इस कारण उन्हें जिंदगी के थपेड़े झेलने के लिए मज़बूर होता पड़ता है। आज के इस डिजिटल और आर्थिक युग में सभी अच्छी शिक्षा ग्रहण करना चाहते हैं, अच्छी तकनीक सीखना चाहते हैं, कंप्यूटर ऑपरेट करना चाहते हैं, और इन सब के माध्यम से अंत में एक बेहतर जॉब प्राप्त कर अपने सुखमय जीवन जीना चाहते हैं। लेकिन तमाम अकादमिक और तकनीकी शिक्षा ग्रहण करने के बाद भी अगर आपको जॉब नहीं मिले और जीवन यापन के लिए आप भीख मांगने पर मजबूर हो जाएं तो कैसी स्थिति उत्पन्न होगी?



इस स्थिति की कल्पना मात्र से ही रूह कांप उठती हैं, लेकिन यह घटना सच में घटित हुई है। उत्तर प्रदेश के वाराणसी में एक कंप्यूटर साइंस से ग्रेजुएट महिला अस्सी घाट पर भीख मांगने को मजबूर है। उस महिला को न केवल कंप्यूटर अच्छे से ऑपरेट करने आता है, बल्कि वह अच्छे और फर्राटेदार इंग्लिश भी बोलती है। अच्छे कंपनियों में जॉब भी करना चाहती है। मेहनत भी करना चाहती है। इसके बावजूद उसको नौकरी नहीं मिलती और उसे भीख मांगने पर मजबूर होना पड़ता है। इसके लिए कसूरवार कौन है? वह महिला…जिसने कंप्यूटर से स्नातक किया या  वह समाज, जिसमे इतनी जनसंख्या बढ़ गई कि वहां एक आम भारतीय को गुजर बसर करना भारी पड़ रहा है, या वह सरकार जो समय रहते नौकरी का अवसर या रोजगार नहीं उत्पन्न  कर पाई?



अभी जो हम बताने जा रहे हैं, यह एक उस लाचार महिला की कहानी है जो शायद इस सिस्टम पर सवाल है। महिला का नाम स्वाती है। स्वाती बनारस के अस्सी घाट पर भीख मांगने का काम करती हैं, लेकिन यह काम भी वह नित्य प्रतिदिन निष्ठा से करती है। यानी प्रतिदिन अपने समय से स्थान पर बैठ जाती हैं, और दैनिक तरीके से भीख मांगने का काम करती हैं।



पिछले 3 सालों से लगातार अस्सी घाट पर भीख मांगने वाली स्वाती, पिछले दिन की तरह ही भीख मांग रही थीं। ऐसे में उस समय वहां बीएचयू में पढ़ने वाले छात्र अवनीश पहुंचे। अवनीश ने भीख के रूप में उन्हें कुछ पैसे देना चाहा लेकिन स्वाती ने इसे अस्वीकार करते हुए बोलीं-  हमें भीख में पैसे नहीं नौकरी चाहिए इसके बाद अवनीश ने स्वाती का वीडियो रिकॉर्ड किया और उसकी समस्या को फेसबुक पोस्ट पर लिख कर डाल दिया।



पहले आप यह जान लीजिए कि अवनीश ने पोस्ट में क्या लिखा है, फिर वह वीडियो दिखाएंगे। फेसबुक पोस्ट में अवनीश लिखते हैं “अस्सी घाट पर रह रही यह महिला स्वाती है, जो कि कम्प्यूटर साइंस में स्नातक है । एक बच्चे को जन्म देने के बाद इनके शरीर का दाहिना हिस्सा पैरालाइज हो गया है। यह तीन साल पहले वाराणसी आयी थी और यही रह रही है। यह मानसिक रुप से पूर्णतः स्वस्थ है, पर शरीर के दाहिने हिस्से के लाचारी वस घाटों पर ही रहती हैं।


Please order and get 10 percent discount only for www.aakhirisach.com readers.

इन्हें रिहैब की नही अपितु आर्थिक सहायता की आवश्यकता है जो निरंतर हो। इन्होंने मुझसे पैसे नही चाहिये पर कहा मुझे कोई काम दिलाओ। स्वाती टाइपिंग कर सकती है और कम्प्यूटर सम्बन्धी अन्य कार्य भी। अंग्रेजी फर्राटेदार है और शानदार व्यवहार। स्वाती बेहतर जिंदगी की हकदार है, कोशिश करिये आप सभी और हम स्वाती की मदद करिये।”    अब वो वीडियो देखिए। उक्त वीडियो देखनें के लिये शारदा अविनाश त्रिपाठी की फेसबुक टाईम लाइन पर यहां देखें। देखनें व शारदा अविनाश त्रिपाठी की टाईम लाइन पर जाकर बेहतर टाईम लाइन बनानें के फोटो पर क्लिक करें।


और उसकी श्रंखला को देखिये स्वेच्छानुसार कदम बढ़ाइए।

https://aakhirisach.com/wp-content/uploads/2022/02/IMG-20220222-WA0011.jpg

हाल ही वाराणसी से एक वीडियो वायरल हुआ है जिसमें बुरे हाल में दिख रही एक महिला भीख मांग रही है। आपको जानकर हैरानी होगी कि स्वाति नाम की यह महिला कंप्यूटर साइंस में ग्रेजुएट है और फर्राटे से अंग्रेजी बोल सकती हैं। अस्सी घाट के पास भीख मांग रही स्वाति का यह वीडियो आपको भावुक कर सकता है।

स्वाति का यह वीडियो बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट शारदा अविनाश त्रिपाठी ने शेयर किया है। इस वीडियो के आने के बाद से ही सोशल मीडिया में स्वाति को लेकर बातें हो रही हैं। स्वाती पर अब तक सभी आयामों से वायरल वीडियो को अब तक 98,000 से ज्यादा लोग देख चुके हैं। इस वीडियो में स्वाति बता रही हैं कि वे दक्षिण भारत में आंध्र प्रदेश के धननवाड़ा गांव, मायलावरम मंडल, कडप्पा जिला से है। और तीन साल पहले वाराणसी आई थीं। तब से वे यहीं हैं और जीवन यापन करने के लिए अवसर की तलाश कर रही हैं। वहीं आखिरी सच नें उक्त गांव से सम्पर्क खोजा बाबूराव जाधव सरपंच मोबाइल से सम्पर्क का प्रयास जारी है।

बेहद मजबूर हालात में नज़र आ रही स्वाति को रुपए या शरण नहीं, चाहिए वे चाहती हैं, कि उन्हें उनकी पढ़ाई के अनुसार कोई नौकरी मिल जाए, ताकि स्वाभिमान के साथ जीवन ली सकें। स्वाति को कम्प्यूटर का अच्छा नॉलेज है, वह टाइप करना भी जानती हैं, स्वाति ने यह भी बताया कि बच्चे को जन्म देने के बाद से उनकी आधी बॉडी पैरेलाइज्ड हो गई थी।

समाज में क्यों है ऐसी दिक्कत
स्वाति के इस वायरल वीडियो के बाद से काफी लोग उनके प्रति हमदर्दी दिखा रहे हैं। स्वाति पढ़ी-लिखी हैं, इंग्लिश जानती हैं, फिर भी उनकी इस हालत को लेकर सोशल मीडिया पर लोग प्रतिक्रिया दे रहे हैं। इंटरनेट यूजर्स स्वाति जैसी औरतों की ऐसी हालत पर सवाल उठा रहे हैं। साथ ही प्रतिभाशाली युवाओं को मौका मिले, इससे जुड़ी सलाह भी दे रहे हैं।


कृपया हमें सहयोग करें जिस प्रकार कर सकें, हम समाज के द्वारा समाज के लिए सनातनी मूल्यों को आत्मसात कर सबसे अलग कुछ नया देनें के लिए प्रयासरत है। आपका थोडा़ सा सहयोग हमें और मजबूत बनायेगा।aakhirisach@postbank

Donation

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!