GA4

चित्रकूट में विधवा आरती शुक्ला को नही कोई सरकारी इमदाद, जर्जर घर में रहनें को विवश परिवार।

Spread the love


जनपद चित्रकूट के राजापुर नगर पंचायत अंतर्गत वार्ड नंबर 7 रूपौलिहा टोला में आज एक निहायत ही करीब असहाय विधवा महिला ने अपनी समस्याएं गिनाई। यह महिला वाकई इतनी गरीबी में जीवन यापन कर रही है जिसका शब्दों में उल्लेख करना बहुत ही मुश्किल हो रहा है इस महिला की अव्यवस्था देखकर और आपबीती सुनकर हृदय द्रवित हो उठा। यह एक असहाय निर्धन अबला बिलखती विधवा महिला की आपबीती है हृदय को झकझोर देने वाली सच्चाई है। आरती शुक्ला जो निहायत ही गरीब और असहाय हैं जिनके पास अपने परिवार को चलाने के लिए किसी प्रकार की कोई व्यवस्था नहीं है, आरती शुक्ला जी के पास 5 बच्चे हैं तीन लड़की और दो लड़के क्रमशः रीता, लक्ष्मी, काजल, शिवा और कार्तिक। आज कि इस महंगाई में आरती शुक्ला के पास इन बच्चों के पढ़ाई लिखाई पालन पोषण के लिए किसी भी प्रकार की कोई दूर दूर तक व्यवस्थाएं नहीं है। इस परिवार कि आज की यह स्थिति है कि बच्चे कभी कभी पानी पीकर ही भूखे पेट सो जाते हैं पूरे घर में शायद ही अन्न का एक दाना भी कही मिल जाए। अब हम बात करते है सरकारी सुविधाओं की तो सरकारी सुविधाओं के नाम पर ना इनका राशन कार्ड है, ना इनका आवास है ना ही इनको शौचालय प्राप्त हुआ है, और सबसे बड़ी बात यह कि यह महिला विधवा है, और विधवा पेंशन भी नहीं मिल रही है। अब ऐसे में आखिर इन 5 बच्चों का पालन पोषण पढ़ाई लिखाई कैसे करे यह निर्धन महिला, आपको बता दें कि जिस मकान में यह परिवार रह रहा है चारों तरफ से बहुत ही जीर्ण अवस्था में है कभी भी यह कच्चा मकान गिर सकता है और इस परिवार के साथ कभी भी कोई अप्रिय घटना घट सकती है, भारी ठंड है और ऊपर से बारिश भी हो रही है यह परिवार जाएं भी तो कहां जाएं खंडहर के रूप में तब्दील हो चुके मकान में यह गरीब परिवार रहने को मजबूर है। अभी भी आरती शुक्ला जैसे बहुत सी असहाय निर्धन अबला विधवा महिला हैं, जिन्हे सरकारी सुविधाओं की सख्त जरूरत है, और सरकारी सुविधाओं की वाकई सही हकदार व पात्र हैं, लेकिन इन पात्र परिवारों को सुविधाएं के नाम पर सिर्फ और सिर्फ झूठे दिलासे दिए जाने के अलावा और कुछ नही मिल रहा है। मिले भी कुछ क्यों सरकार व संविधान की निगाह में सामंतशाही परिवार से जो हैं।



भारी ठंड, और ऊपर से बारिश भी हो रही है यह परिवार जाएं भी तो कहां जाएं खंडहर के रूप में तब्दील हो चुके मकान में यह गरीब परिवार रहने को मजबूर है। अभी भी आरती शुक्ला जैसे बहुत सी असहाय निर्धन अबला विधवा महिलाएं हैं, जिन्हे सरकारी सुविधाओं की सख्त जरूरत है और सरकारी सुविधाओं की वाकई सही हकदार व पात्र भी हैं, लेकिन इन पात्र परिवारों को सुविधाएं के नाम पर सिर्फ और सिर्फ झूठे दिलासे दिए जाने के अलावा और कुछ नही मिल रहा है।

सबसे बड़ा सवाल यह है कि अभी तक इस गरीब विधवा महिला की सहायता जिम्मेदारों द्वारा क्यो नही की गई? कच्चे मकान की हालत ऐसी हैं कि बरसात के समय छप्पर से पानी टपकता है कच्ची दीवार कब भरभराकर गिर जाए कोई ठिकाना नही है अपने दो बच्चों को लेकर खतरे में जीवन गुजार रही हैं। न तो राशन कॉर्ड है न ही विधवा पेंशन मिल रही न ही शौचालय मिला और न ही अभी तक रहने के लिए सरकारी आवास मिला। राशन के नाम पर घर मे मात्र 2 किलो आटा और चावल पालीथीन के पैकटों में पड़ा रहता है। रिश्तेदारों से थोड़ा बहुत आर्थिक मदद मिल जाती है जिससे बच्चों की फीस भर जाती है अन्य खर्चों के लिए काम करके बसर कर रही। सभी सरकारी योजनाओं के लाभ से वंचित बेघर बिधवा सरकार की अंत्योदय योजना को झूठा साबित करती इस गरीब विधवा की कहानी जनपद के राजापुर कस्बे के वार्ड नंबर 7 रूपौलिहा टोला निवासी आरती शुक्ला के पति कमलेश की 3 वर्ष पूर्व मृत्यु हो गयी है इस समय आरती अपने 5 बच्चों रीता, लक्ष्मी, काजल, शिवा और कार्तिक के साथ जीवन बसर कर रही हैं। तीनो बेटियाँ दोनों बेटों से बड़ी हैं, जिनमे 2 शादी योग्य है। घर की स्थिति ऐसी हैं कि उसकी बेटिया रिश्तेदारों के यहाँ रहने को मजबूर हैं क्योकि घर मे 6 लोगो को एकसाथ रहने के लिए न तो जगह है न तो बिस्तर बेहद गरीबी में जीवन गुजार रही आरती किसी भी सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं पा रही हैं।

समस्त सनातन संस्कृति के संवाहकों से आखिरी सच परिवार अनुरोध करता है, कि कम से कम कुछ अनुदान परिवार के लिये जरुर करें, जिससे परिवार का सशक्तिकरण हो सके।

साभार सरस भावना हिन्दी दैनिक।


यदि आप चाहते हैं कि आखिरी सच परिवार की कलम अविरल ऐसे ही चलती रहे कृपया हमारे संसाधनिक व मानवीय संम्पदा कडी़ को मजबूती देनें के लिये समस्त सनातनियों का मूर्तरूप हमें सशक्त करनें हेतु आर्थिक/ शारीरिक व मानसिक जैसे भी आपसे सम्भव हो सहयोग करें।aakhirisach@postbank

https://aakhirisach.com/wp-content/uploads/2022/02/IMG-20220222-WA0011.jpg

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!