GA4

गैर दलितों नें चलाया ट्वीटर पर #Scst_Act_Murdabad हैज़ टैग, आसान नही 2022 उक्त एक्ट समर्थक पार्टियों को।

Spread the love


हाथरस का बूलगढ़ी की वाल्मीकि समाज की लड़की का तथाकथित चार ठाकुरों के द्वारा गैंग रेप का फर्जी केस रहा हो, जिसे इसी कलम नें 1 अक्टूबर 2020 को फलाना दिखाना समाचार वेब पोर्टल पर प्रेम प्रसंग व तीन का निर्दोष होना मैनें दिखाया था, तब 14 सितम्बर से हो हल्ला कर रही मीडिया एकदम से शान्त हो गयी थी। हां कुछ प्रोपेगैंडा चैनल आज भी फर्जी विवरण दिखाया करते हैं।

https://twitter.com/VPP_IND/status/1483452618504814603?t=hK9pTPkkRbqvMWSvVBw4yg&s=19

इसी क्रम में स्वर्गीय संगीता रजावत पत्नी अनिल रजावत परिवार पर बच्चों के विवाद में स्वघोषित दोगले सक्सेना द्वारा एससी एसटी एक्ट लगाया गया हो हल्ला हुआ, लेकिन फलाना दिखाना पर एक बार फिर हमारी जमीनी रिपोर्ट फिर सत्य साबित हुई व परिवार से एससी एसटी एक्ट हटाया गया, अनिल जी को 5 लाख का मुवावजा मिला।

यह सिलसिला बढ़ते हुए बांदा नरैनी विधायक के गोरख धंधे का पर्दाफाश करते हुए दर्जनों लोगों पर दर्ज एससी एसटी एक्ट का सच समाज को एक बार फिर दिखाया गया फलाना दिखाना के द्वारा।

https://twitter.com/brahmins_voice/status/1483460694062530566?t=r6AWV4eCC0IfU01OsxuuYQ&s=19

तत्पश्चात बंदोईया अमेठी के दलित प्रधानपति द्वारा फर्जी तरीके से ब्राह्मण परिवार को एससी एसटी एक्ट में फँसानें के लिये स्वयं पर पेट्रोल डाल कर आग लगा ली गयी व परिवार को फँसा दिया गया, जिसके पेंचों को देखते हुए हमारी रिपोर्ट नें देश की इज्जतदार बिकाऊ मीडिया की भांड़गीरी को नंगा किया।

वहीं आखिरी सच समाचार वेब पोर्टल सम्पादक पर 1 अगस्त 2020 को बांसगांव गोरखपुर के आरक्षित विधायक के संरक्षण प्राप्त दलित एस एच ओ रमेश कुमार द्वारा एससी एसटी ऐक्ट लगाया गया जबकि यह बदमिजाज दरोगा अपनें पुलिस विभाग में आनें के बाद से आजतक बर्बरता, बत्तमीजी, नैतिकता विहीन व चारित्रिक गिरे कार्यों से सदैव हाई लाइटेड रहा है। लेकिन सरकारी मशीनरी आंख बन्द किये बैठी है।

वहीं जनपद लखनऊ में लगे समस्त एससी एसटी एक्ट के केसों में से 90% केस फर्जी पाये गये जबकि कुल लगे केसों में से 90% केस पिछडी़ समाज पर लगे वहीं ललितपुर में लगे सभी केसों में से लगभग 90% प्लस केस फर्जी पाये गये।

हँसी तो तब आती है जबकि बेवकूफ गैर दलित समाज किसी न किसी एससी एसटी एक्ट समर्थक नेता का झण्डा उठाये घूम रहा है, ये अपनी आनें वाली पीढी़ को क्या देकर जायेंगे? यह हर गैर दलित नेता व समर्थक से आखिरी सच की ओर से यक्ष प्रश्न है।

किसी भी एससी एसटी एक्ट की मूक समर्थक पार्टी से इस गैर दलित यथा सामान्य, पिछडी़ व अल्पसंख्यक समुदाय कब तक झण्डा डण्डा उठाये घूमेगा??


यदि आप चाहते हैं कि आखिरी सच परिवार की कलम अविरल ऐसे ही चलती रहे कृपया हमारे संसाधनिक व मानवीय संम्पदा कडी़ को मजबूती देनें के लिये समस्त सनातनियों का मूर्तरूप हमें सशक्त करनें हेतु आर्थिक/ शारीरिक व मानसिक जैसे भी आपसे सम्भव हो सहयोग करें।aakhirisach@postbank

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!