GA4

कोरोना के चौथे वैरिएंट के आनें का समय निर्धारित 22 जून से हो सकता है भारत में प्रवेश, देखें रिपोर्ट।

Spread the love

corona virus new wave


कोरोना वायरस ने दो साल में पूरी दुनिया को बदलकर रख दिया है। हर बार इसकी लहर कमजोर होते ही लोगों में इस महामारी के खत्म होने की उम्मीद जागती है, तब तक नया वैरियंट आ जाता है। ओमिक्रॉन इसका लेटेस्ट वैरियंट था और वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन ( WHO) का कहना है कि यह लास्ट नहीं था। नया वैरियंट कब तक आएगा डब्लूएचओ ने इस  पर भी बात की है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि वैरियंट्स कभी भी आ जाते हैं पर अगला वैरियंट आने में अभी वक्त लगेगा। डॉक्टर मारिया वान करखोफ ने बताया कि ओमिक्रॉन आखिरी चिंता पैदा करने वाला वैरियंट नहीं था, UN हेल्थ एजेंसी इसके चार अलग वर्जन्स को ट्रैक कर रही है।

कोरोना की तीसरी वेव की रफ्तार हल्की पड़ रही है। ऐसे में वैज्ञानिक अब चौथी लहर का गणित लगा रहे हैं। IIT Kanpur के वैज्ञानिकों का कहना है कि भारत में कोविड की अगली यानी चौथी लहर 22 जून के आसपास आएगी जो कि 24 अक्टूबर तक चलेगी। बता दें कि इससे पहले आईआईटी शोधकर्ताओं ने कोविड वेव से जुड़ीं जो भी भविष्यवाणियां की थीं वे लगभग सही निकल चुकी हैं। वैज्ञानिकों ने बताया है कि चौथी लहर 4 महीने तक चलेगी। ओमिक्रॉन के बाद चौथी लहर कितनी खतरनाक होगी यह नए वैरियंट और कितने लोगों को वैक्सीन और बूस्टर डोज लग चुकी हैं, इन पर निर्भर करेगा।



पहले भी सही निकल चुके हैं आंकड़े

कोरोना के केसेज कम होने के साथ तीसरी लहर हल्की पड़ती जा रही है। अब आईआईटी कानपुर के शोधकर्ताओं ने अगली लहर के समय का कैलकुलेशन लगाया है। MedRxiv में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में कोविड की चौथी लहर 22 जून के आसपास आएगी और यह 24 अक्टूबर तक चलेगी। इससे पहले आईआईटी कानपुर की स्टडी में भविष्यवाणी की गई थी कि भारत में तीसरी लहर फरवरी की शुरुआत में आएगी इसके बाद केसेज कम होने लगेंगे। यह आंकड़े दिसंबर में ही पब्लिश हो गए थे। इन आंकड़ों में थोड़ा बहुत ही अंतर है और लगभग सही निकले।

अगस्त में आएगा पीक

रिपोर्ट के मुताबिक, वैज्ञानिकों ने बताया है कि चौथी लहर 15 अगस्त से 31 अगस्त के आसपास पीक पर होगी। इसके बाद केसेज घटने लगेंगे। ओमिक्रॉन के बाद वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन ( WHO) के वैज्ञानिक कह चुके हैं कि यह आखिरी वैरियंट नहीं था। उन्होंने बताया था कि नया वैरियंट आने में वक्त लग सकता है पर आना तय है। साइंटिस्ट मारिय वान करखोफ ने बताया था कि कोरोना वायरस के म्यूटेश।

ट्रैक किया जा रहा है म्यूटेशन

डॉक्टर मारिया ने अगले कोविड वैरियंट के  बारे में बताया, हमको इस वायरस के बारे में काफी कुछ पता है लेकिन हम सबकुछ नहीं जानते। और सच कहूं तो ये वैरिंयट्स वाइल्ड कार्ड्स की तरह हैं। इसलिए यह वायरस जैसे-जैसे बदल रहा है और म्यूटेट हो रहा है हम इसे ट्रैक करते जा रहे हैं।


विज्ञापन

फैलने की स्पीड होगी तेज

Livemint की रिपोर्ट के मुताबिक, डॉक्टर मारिया ने बताया, ओमिक्रॉन लेटेस्ट वैरियंट ऑफ कंसर्न है। यह आखिरी नहीं होगा। उम्मीद करते हैं कि अगला वैरियंट आने में थोड़ा वक्त लगेगा। हालांकि अब जो वैरियंट्स आएंगे उनके फैलने की स्पीड काफी तेज होगी। इसलिए हमें ध्यान रखना होगा कि हम न सिर्फ वैक्सिनेशन तेज करें बल्कि इसके फैलने को भी कम करें।

क्या होगा ज्यादा खतरनाक?

डॉक्टर मारिया ने बीते महीने बताया था कि अगला वैरियंट ओमिक्रॉन से तेज फैलने वाला होगा लेकिन इस बात का जवाब मिलना बाकी है कि यह उतना खतरनाक होगा या नहीं। ओमिक्रॉन वैरियंट अब तक ज्यादातर हर देश में पाया जा चुका है। कई देशों में इसके संक्रमण की दर घट रही है।


यदि आप चाहते हैं कि आखिरी सच परिवार की कलम अविरल ऐसे ही चलती रहे कृपया हमारे संसाधनिक व मानवीय संम्पदा कडी़ को मजबूती देनें के लिये समस्त सनातनियों का मूर्तरूप हमें सशक्त करनें हेतु आर्थिक/ शारीरिक व मानसिक जैसे भी आपसे सम्भव हो सहयोग करें।aakhirisach@postbank

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!