GA4

ज्ञानवापी तथाकथित मस्जिद, के वाद मेंअगली तारीख 4 अप्रैल- हाईकोर्ट

Spread the love
आखिरी सच वांट
आखिरी सच वांट

इलाहाबाद हाईकोर्ट में काशी विश्वनाथ और ज्ञानवापी मस्जिद विवाद को लेकर दाखिल याचिकाओं की मंगलवार यानी 29 मार्च से नियमित सुनवाई शुरू हो चुकी है। वाराणसी के अंजुमन इंतेजामिया मस्जिद की ओर से दाखिल याचिका व अन्य याचिकाओं की सुनवाई जस्टिस प्रकाश पाडिया की एकल पीठ करेगी।



विश्वेश्वर नाथ मंदिर की तरफ से वकील विजय शंकर रस्तोगी ने अतिरिक्त लिखित बहस दाखिल की। उन्होंने कहा कि याची ने सीपीसी के आदेश 7 नियम 11 डी के तहत वाद की पोषणीयता पर आपत्ति अर्जी दाखिल की थी, लेकिन उस पर बल न देकर जवाबी हलफनामा दाखिल किया है।

बता दें कि हाईकोर्ट ने ज्ञानवापी मस्जिद के संपूर्ण परिसर के सर्वेक्षण पर रोक लगा रखी है। वाराणसी की एक अदालत ने 8 अप्रैल, 2021 को ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का समग्र भौतिक सर्वेक्षण कराने के लिए आदेश दिया था। कोर्ट ने दो हिंदू, दो मुस्लिम सदस्यों और एक पुरातत्व विशेषज्ञ की पांच सदस्यीय समिति गठित करने का आदेश दिया था। गौरतलब है कि मूल वाद वाराणसी में 1991 में दायर किया गया था, जिसमें प्राचीन मंदिर को बहाल करने का अनुरोध किया गया था। मौजूदा समय में उस स्थान पर ज्ञानवापी मस्जिद मौजूद है।



हाईकोर्ट में पूरी नहीं हो सकी सुनवाई, अब 4 अप्रैल की तारीख

वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर के पास स्थित ज्ञानवापी मस्जिद मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट में सुनवाई पूरी नहीं हो सकी।
कोर्ट में दाखिल अर्जी में इसे हिंदुओं को सौंपे जाने और वहां पूजा अर्चना की इजाजत दिए जाने की मांग की गई थी। हाईकोर्ट इस मामले में 4 अप्रैल को फिर से सुनवाई करेगी। हाई कोर्ट में इस मामले में मुस्लिम पक्षकारों की पांच याचिकाएं पेंडिंग हैं।

इन पांचों अर्जियों पर अदालत एक साथ सुनवाई कर रही है, हालांकि दो अर्जियों पर तो हाईकोर्ट ने सुनवाई पूरी कर अपना जजमेंट भी रिजर्व कर रखा है। अप्रैल या मई महीने तक अदालत इस बेहद चर्चित मामले में अपना फैसला सुना सकती है। हाईकोर्ट ने फैसला आने तक वाराणसी की सिविल कोर्ट से सुनाए गए विवादित परिसर की खुदाई एएसआई से कराकर उसका सर्वेक्षण कराए जाने के फैसले पर भी रोक लगा रखी है।


Share

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!