GA4

बीता माह 122 साल की सबसे गर्म दिनों में से रहा, तापमान 45 डिग्री के पार, ये कहां जा रहें हैं हम?

Spread the love


अप्रैल का महीना बीते 122 साल के सबसे गर्म दिनों में से रहा है। तापमान 45 डिग्री के पार चला गया यानी हीट वेव रही। ये हीट वेव अचानक नहीं आई है।


ये पिघलते ग्लेशियर कुछ कहते हैं।


शहर बढ़ते जा रहे, जंगल का हाल आप देख ही रहे हैं। हिमालय के पिघलते ग्लेशियर भी आने वाले खतरे को साफ बयां कर रहे हैं। बीते 35 साल में कुल 2.3 अरब शहरी आबादी में इजाफा हुआ है।


ये बढ़ती जनसंख्या कुछ कहती हैं।


दुबई का ही उदाहरण लें तो यहां की जनसंख्या 1984 में थी 3 लाख 25 हजार। 2020 में जनसंख्या हो गई 33 लाख के करीब। ये बदलाव ग्लेशियर से लेकर जंगलों तक पर बुरा असर डाल रहे हैं।


ये कर कारखानों का उत्सर्जन है प्रमुख कारण।


गूगल की कुछ चुनिंदा फोटोज़ के सहारे हमनें आपको ऊपर आलेख में यह बताने का प्रयास किया है कि तीस साल में ग्लेशियर, जंगल और बढ़ते शहर ने पृथ्वी का हाल कैसा कर दिया है।


Share

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!