GA4

सीमा की परवरिश व जज्बे को आखिरी सच परिवार का सलाम, व्यवस्था व जिम्मेदार अंधे, सुशासन बाबू के कुशासन फर हमारी अकेली जमीनी रिपोर्ट।

Spread the love


बिहार के सुशासन बाबू के कुशासन की पोल खोलती हमारी यह ग्राउण्ड  रिपोर्ट एक विकलांग बिटिया नाम शीला कुमारी पुत्री श्री खिरन मांझी व श्रीमती बेबु देवी गांव फतेहपुर, प्रखंड खैरा, जिला जमुई, बिहार जो गांव के आखिरी छोर से दूसरे छोर पर गांव के बाहर लगभग 3 किमी दूरी  पर स्थित विद्यालय एक पैर पर उछल कर जानें को विवश है। जब हमनें दैनिक भाष्कर फर बिटिया का वीडियो देखा हम भी जमीनी पड़ताल को चल दिये, जिसमें व्यवस्था की पोल खोलती हमारी यह रिपोर्ट



जी हां सीमा देवी उम्र 10 वर्ष जो कि प्राथमिक विद्यालय फतेहपुर प्रथम विद्यालय में कक्षा 4 की छात्रा हैं। इस बिटिया का पैर एक्सीडेन्ट जब कि यह कक्षा 1 में थी। वहीं परिवार मे पांच बच्चे हैं, पहली बिटिया किरण है, सीमा जो कि विकलांग है, तीसरी बिटीया काजल है 6 साल की व आंगन बाडी़ जाती है, जबकि चौथे नम्बर पर बेटा दीपक है जो 5 साल का है वही पांचवी नम्बर पर तुसी कुमारी है जो दो वर्ष की है।



खिरण मांझी के पास जमीन नही है, परिवार ईंट पथाई करनें देश के विभिन्न भागों में जातें हैं, जिससे परिवार केवल खाना खा पाता है। जिस समय परिवार भठ्ठे पर ईंट पथाई के लिये जब जाता है तो बच्चे भी साथ जातें हैं, जिससे उनकी पढ़ाई बाधित हो जाती है। जिसपर हमारे प्रतिनिधि द्वारा भठ्ठे के क्षेत्र में नजदीकी विद्यालय में बच्चों के नामांकन की बात परिजनों से कही गयी, व यदि विद्यालय नामांकन में टाल मटोल करे तो आखिरी सच की हेल्पलाइन पर बतानें को कहा।



खिरण मांझी को पात्र गृहस्थी का राशन कार्ड है, जबकि आयुष्मान योजना का निःशुल्क ईलाज का कोई कार्ड नही बना है। राशन कार्ड में कुल लाभार्थी आठ हैं जबकि परिवार की पात्रता पात्र गृहस्थी की न होकर अंत्योदय की है। जो कार्ड है उसको अर्से बीत गये लेकिन वह आजतक अपडेट नही किया गया, जिस परिवार के पास खानें का ठिकाना नही उनको पात्र गृहस्थी योजना का राशन कार्ड दिया गया है।



वही इसी गांव में लगभग 50% अपात्रों को अंत्योदय योजना का कार्ड जारी किया गया है। परिवार को आज तक आवास का लाभ नही दिया गया है परिवार मिट्टी के घर में जीवय यापन को विवश है, जय हो सुशासन बाबू के कुशासन की।


Share

One thought on “सीमा की परवरिश व जज्बे को आखिरी सच परिवार का सलाम, व्यवस्था व जिम्मेदार अंधे, सुशासन बाबू के कुशासन फर हमारी अकेली जमीनी रिपोर्ट।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!