GA4

मां कुष्मांडा को कुम्हड़े की बलि अति प्रिय- वास्तुशास्त्री डॉ सुमित्रा अग्रवाल

Spread the love

अल्प सेवा से प्रसन्न होने वाली मां कुष्मांडा को कुम्हड़े की बलि अति प्रिय है। संस्कृत में कुम्हड़े को कुष्मांड कहते हैं। मधुपर्क, तिलक नेत्रज्ज़न चढ़ाये। माँ को हरा रंग बहुत पसंद है। हरे रंग की चीजे चढ़ाये जैसे की मोसम्बी, हरा केला, अंगूर और शरीफा।

विस्तार………

दुर्गा- पूजा में प्रतिदिन का वैशिष्ट्य महत्व है और हर दिन एक देवी का है। नवरात्रि के ९ दिनों में मां दुर्गा के ९ रूपों की पूजा होगी। २९ सितंबर चतुर्थी को मां कुष्मांडा की पूजा है।

माँ कुष्मांडा का स्वरुप

माँ कुष्मांडा की आठ भुजाएं हैं। इनके सात हाथों में क्रमशः कमण्डि, धनुष, बाण, कमि-पुष्प, अमृतपूणणकिश, चक्र तथा गदा हैं और आठवें हाथ में सभी सद्धियों और निधियां को देने वाली जप माला है। माता कुष्मांडा देवी का वाहन सिंह है।


क्या कुष्मांडा देवी सूर्य मंडल के भीतर वास करती है

सूर्य लोक में केवल एक ही देवी है, कुष्मांडा। सूर्य के तेज को अपने में समाहित करने वाली देवी माँ कुष्मांडा सूर्य के सामान दैदीप्यमान है। ब्रह्मांड की सभी वस्तुओं और प्राणियों में इन्हीं का तेज व्याप्त है।

क्या माँ कुष्माडा सृष्टि की रचयिता है

माँ कुष्मांडा ने ही अपनी मंद, हल्की हंसी के द्वारा ब्रह्मांड को उत्पन्न किया। जब सृष्टि नहीं थी, चारों तरफ अंधकार ही अंधकार था, तब इन्ही देवी ने अपने ईषत्हास्य से ब्रह्मांड की रचना की थी। इसीलिए इनका नाम सृष्टि की आदिस्वरूपा या आदिशक्ति पड़ा।

माँ कुष्मांडा की आराधना करने से क्या विशेष फल प्राप्त होता है

माँ कुष्मांडा की आराधना करने से रोगों और शोकों का नाश होता है तथा आयु, यश, बल और आरोग्य की प्राप्ति होती है।

माँ के पूजन की विशेष सामग्री

माँ को कुम्हड़े की बलि अति प्रिय है। संस्कृत में कुम्हड़े को कुष्मांड कहते हैं। मधुपर्क, तिलक नेत्रज्ज़न चढ़ाये। माँ को हरा रंग बहुत पसंद है। हरे रंग की चीजे चढ़ाये जैसे की मोसम्बी, हरा केला, अंगूर और सरीफा।

सभी मनोकामनाओ की पूर्ति के लिए क्या करे माँ को नारियल अवश्य चढ़ाये और मन से पूजा करे। माँ अल्प सेवा से प्रसन्ना हो जाती है।

वास्तुशास्त्री डॉ सुमित्रा अग्रवाल इंटरनेशनल वास्तु अकडेमी सिटी प्रेजिडेंट कोलकाता


 

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!