GA4

क्या कुत्तो के काटने के पीछे मनुष्य का हाथ है- जानते हैं डॉ० सुमित्रा अग्रवाल जी से

Spread the love

कुत्तों को छेड़ने से कुत्ते काटते हैं, ये एक आम धारणा है। परन्तु ये पूर्णतया सत्य नहीं है।

तो कुत्तों के काटनें के पीछे का सांस्कृतिक व वैज्ञानिक दृष्टिकोण।

जानिये आयातित व्यवस्था व सांस्कृतिक व्यवस्था।

कुत्ते क्यों काटते हैं?

अधिकांश हमले स्पष्ट रूप से अकारण होते हैं, लेकिन कुत्तों को हमेशा दोष नहीं देना चाहिए। कुत्तों को खाने के दौरान परेशान होने और धमकी देने या उनके क्षेत्र पर आक्रमण किए जाने पर नापसंद होने पर नाराजगी होती है, और वे परिवार के अन्य सदस्यों पर ध्यान देने से ईर्ष्या कर सकते हैं, और तब काट भी सकते है।



क्या सिर्फ बड़े कुत्ते काटते है?

अधिकांश समीक्षकों के निष्कर्ष हैं, कि उच्च जोखिम वाले जानवरों में बड़े कुत्ते, जर्मन शेफर्ड कुत्ते, पिट बुल टेरियर, रोटवीलर और चाउ अधिकांश हमले कर देते है। लेकिन सभी कुत्तों को खतरनाक माना जाना चाहिए। ये न समझे की छोटे कुत्ते जान लेवा हमला नहीं कर सकते है। जैक रसेल टेरियर्स जैसे छोटे कुत्ते भी गंभीर रूप से काटते हैं।

अगर कुत्ते ने काट लिया है तो क्या करे?

• नल के पानी या सामान्य खारे पानी से बार- बार कुत्ते द्वारा काटी गयी जगह को धोयें।

• गन्दगी या दन्त का टूकडा अगर हो तो उसे हटा दें।

• अगर चोट की जगह सूजन होने लगे , तो अंग को ऊपर उटाह कर रख्खे। मान लीजिये पैर में लगा है और पैर सूजने लगा है तो लेट जाए और पैर को तकियो के सहारे से ऊंचा कर दे।

• संक्रमित घावों के मवाद या गहरे घाव का स्वाब भेजें की परीक्षा जरुरी है।

• टेटनस के इंजेक्शन लगाने की सलाह हैं, साथ ही इम्युनोग्लोबुलिन और टॉक्सोइड भी लिया जाना चाहिए।


विज्ञापन द्वारा रूद्र त्रिपाठी।


वास्तु का सम्बन्ध जानवरो के स्वाभाव से कैसे जुड़ा है?

वास्तु द्वारा हम घर की एनर्जी और इस एनर्जी का हमारे शरीर में विस्तार करते है। इसी विस्तार के लिए हम शक्तिशाली देवताओं के स्थान पर विशेष करामात करते है। ऐसे ही एक देव है विवस्वान। इनका स्थान वास्तु चक्र में दक्षिण में है, और इस स्थान पर अगर घर में कुत्ते को बंदतना चालू कर दिया तो वो दिन दूर नहीं जब वो शेर की तरह गुर्राना सुरु न कर दे। जानवर को शक्तिशाली जगहों पर सुलाने से उनकी शक्ति बढ़ेगी और मालिक के लिए नित्य प्रतिदिन चुनौतियां भी बढ़ जाएँगी।

संस्कृति बनाम विज्ञान, श्रेष्ठ कौन,  मूल्यांकन कमेंट मे बतायें।


विज्ञापन द्वारा रूद्र त्रिपाठी


Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!