GA4

लड़के भी होते हैं शारीरिक शोषण के शिकार

Spread the love

बिहार- संवाददाता कुमार चन्द्र भूषण तिवारी

बिहार-कैमूर जिला के बेटी धनेछा ग्रामवासी युवा फाउंडेशन के अध्यक्ष सीमा चौधरी एवं हैप्पी मॉडल स्कूल सिगरा वाराणसी के संयुक्त तत्वाधान में बच्चों को जागरूक किया गया। उन्हें गुड टच और बैड टच के अंतर को समझाया गया। और बताया गया कि अगर कोई आपके साथ गलत व्यवहार करता है, तो आप अपने टीचर को बताएं, अपने माता पिता को बताएं। क्योंकि छोटे बच्चों को ज्यादातर गुड टच बैड टच की जानकारी नहीं होती है। जिसका गंदी मानसिकता वाले लोग आसानी से फायदा उठा लेते हैं। और बच्चे इतने भोले और मासूम होते हैं, कि वह इनकी मानसिकता को समझ नहीं पाते हैं, और शारीरिक शोषण के शिकार हो जाते हैं। बच्चों को समझने की कोशिश की गई उनके सवालों का जवाब भी दिया गया।
यह देखा जाता है कि जो मासूम बच्चे होते हैं, पुलिस को लेकर उनके मन में डर बना रहता है। वह डरते हैं, अपनी बातों को कहने से झिझकते है। मुख्य अतिथि श्रीमती शिवा सिंह जिन्होंने बच्चो के मासूम सवालों के जवाब के साथ साथ उन्हें स्वतंत्र रहने को भी कहा। और बताया कि किस तरीके से वह अपने आप को सुरक्षित रख सकते हैं। साथ ही सिगरा थाना अध्यक्ष राजू सिंह, जी एस आई मीनू सिंह, रही जिन्होंने बहुत ही बारीकी से बच्चों के सवालों का जवाब दिया उनको समझाया, उन्हें बताया कि बच्चे बिना डरे पुलिस से अपनी बात कह सकते हैं। पुलिस उनकी दोस्त है उन्हें डरने की जरूरत नहीं है। युवा फाउंडेशन की टीम लगातार लोगों में महिलाओं और बच्चियों की सुरक्षा और सम्मान के लिए जागरुकता अभियान चला रही हैं। हैप्पी मॉडल स्कूल की डायरेक्टर नीता सिंह जी, कार्यकारिणी प्रधानाचार्य वीणा नागर जी , हेड मिस्ट्रेस शिवांगी सिसौदिया और उनकी स्कूल की पूरी टीम उपस्थित रही। युवा फाउंडेशन की टीम जिसमें चंचल तिवारी, कमलेश कुमार, गौरव कुमार, आलोक कुमार गुप्ता, सुशील विश्वकर्मा, सोनाली सोरेन, सीमा चौधरी आदि लोग उपस्थित रहें।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!