GA4

आईये वास्तु जाने और सीखे- वास्तु शास्त्री डॉ सुमित्रा अग्रवाल जी से

Spread the love

आईये वास्तु जाने और सीखे – भाग १

वास्तु की व्याख्या का उल्लेख मत्स्यपुराण में आता है।

ऋषियों ने सूत जी से पूछा-

सादभवनादीनां निवेशं विस्तराद् वद ।

कुर्यात् केन विधानेन कश्चवास्तुरुदाहृतः ॥ १

अर्थात – कृपया महलों, भवनों और अन्य भवनों की बसावटों का विस्तार से वर्णन करें,निर्माण की विधि क्या है और वास्तु डिजाइन क्या है? १

सूत जी कहते है –

भृगुरत्रिर्वसिष्ठश्च विश्वकर्मा मयस्तथा । नारदो नग्नजिच्चैव विशालाक्षः पुरंदरः॥२

व ब्रह्मा कुमारो नन्दीशः शौनको गर्ग एव च । वासुदेवोऽनिरुद्धश्च तथा शुक्रबृहस्पती ॥ ३

अर्थात – भृगु, अत्रि, वशिष्ठ, विश्वकर्मा और माया भी उपस्थित थे, नारद नागजीत विशालाक्ष और पुरंदर।२

वी ब्रह्मा, कुमार, नंदीशा, शौनक और गर्ग, वासुदेव, अनिरुद्ध, शुक्र और बृहस्पति भी उपस्थित थे। ३

अष्टादशैते विख्याता वास्तुशास्त्रोपदेशकाः । संक्षेपेणोपदिष्टं यन्मनवे मत्स्यरूपिणा ॥ ४

तदिदानीं प्रवक्ष्यामि वास्तुशास्त्रमनुत्तमम् । पुरान्धकवधे घोरे घोररूपस्य शूलिनः ॥ ५

अर्थात – ये अठारह वास्तु शास्त्र के प्रसिद्ध शिक्षक हैं यह संक्षेप में मनु को मछली के रूप में समझाया गया था।४

इसलिए अब मैं वास्तुकला के उत्कृष्ट शास्त्रों का वर्णन करूंगा,पुरंधका के भयानक वध में भयानक रूप का त्रिशूल। ५

ललाटस्वेदसलिलमपतद् भुवि भीषणम् ।करालवदनं तस्माद् भूतमुद्भूतमुल्बणम् ॥ ६
ग्रसमानमिवाकाशं सप्तद्वीपां वसुंधराम्। ततोऽन्धकानां रुधिरमपिवत् पतितं क्षितौ ॥ ७

अर्थात – उनके माथे से पसीने की एक भयानक बूंद जमीन पर गिर पड़ी,उस शरीर से भयानक चेहरे वाला एक भयानक भूत निकला। ६

मानो आकाश, सात द्वीपों और पृथ्वी को निगल लिया हो,तब अन्धकारों का लहू भूमि पर गिर पड़ा। ७



तेन तत् समरे सर्व पतितं यन्महीतले। तथापि तृप्तिमगमन्न तद् भूतं यदा तदा ॥ ८
सदाशिवस्य पुरतस्तपश्चक्रे सुदारुणम् । क्षुधाविष्टं तु तद् भूतमाहत्तुं जगतीत्रयम् ॥ ९

अर्थात – यही वह सब है जो युद्ध में जमीन पर गिर गया,फिर भी, जब ऐसा हुआ, तो वह संतुष्ट नहीं था। ८

उन्होंने भगवान सदाशिव की उपस्थिति में घोर तपस्या की,जब वह प्राणी भूख से व्याकुल हो गया तो उसने तीनों लोकों को मारने का प्रयास किया। ९

ततः कालेन संतुष्टो भैरवस्तस्य चाह वै। वरं वृणीष्व भद्रं ते यदभीष्टं तवानघ ॥ १०
तमुवाच ततो भूतं त्रैलोक्यग्रसनक्षमम् । भवामि देवदेवेश तथेत्युक्तं च शूलिना ॥ ११

अर्थात – हे पापरहित, समय बीतने से संतुष्ट, भगवान भैरव ने भगवान कृष्ण से कहा, कृपया मुझसे एक वरदान मांगो, आपको सभी अच्छे भाग्य दिए जाएंगे। १०

फिर उसने उस प्राणी को सम्बोधित किया जो तीनों लोकों को भस्म करने में समर्थ थे हे देवताओं के भगवान, भगवान शिव ने उत्तर दिया, ऐसा ही हो। ११

ततस्तत् त्रिदिवं सर्वं भूमण्डलमशेषतः । फिर तो वह प्राणी स्वदेहेनान्तरिक्षं च रुन्धानं प्रपतद् भुवि ॥ १२

भूमण्डल और आ आ गिरा। तब भ भीतभीतैस्ततो देवैर्ब्रह्मणा चाथ शूलिना । दानवासुररक्षोभिरवष्टब्धं समन्ततः ॥ १३

अर्थात – तब तीन आकाश, पूरी पृथ्वी और पूरे ब्रह्मांड की रचना हुई। तब जीव अपने शरीर से आकाश को अवरुद्ध करते हुए जमीन पर गिर गया। १२

पृथ्‍वी और पृय्‍वी गिर गई। तब भयभीत होकर देवताओं, ब्रह्मा और शुलि ने उस पर प्रहार किया, यह चारों ओर से राक्षसों, असुरों और राक् घिरा हुआ था। १३

येन यत्रैव चाक्रान्तं स तत्रैवावसत् पुनः । निवासात् सर्वदेवानां वास्तुरित्यभिधीयते | १४
अवष्टब्धेन तेनापि विज्ञप्ताः सर्वदेवताः । प्रसीदध्वं सुराः सर्वे युष्माभिर्निश्चलीकृतः ॥ १५
अर्थात – जहां भी उस पर राक्षस का हमला हुआ, वह फिर वहीं बस गया सभी देवताओं के निवास से इसे वास्तु कहा जाता है। १४
जब वह ठहर गया, तब उस ने सब देवताओं को भी समाचार दिया। हे देवताओं, मुझ पर कृपा करो, क्योंकि तुमने मुझे स्थिर कर दिया है। १५

स्थास्याम्यहं किमाकारो ह्यवष्टब्धो ह्यधोमुखः। ततो ब्रह्मादिभिः प्रोक्तं वास्तुमध्ये तु यो बलिः॥ १६
आहारो वैश्वदेवान्ते नूनमस्य भविष्यति। वास्तूपशमनो यज्ञस्तवाहारो भविष्यति॥१७
अर्थात – मैं किस आकार में खड़ा होने जा रहा हूँ? मैं स्थिर नहीं हूँ, मैं नीचे की ओर हूँ। फिर, जैसा कि ब्रह्मा और अन्य लोगों द्वारा वर्णित किया गया है, बाली को वास्तु के बीच में रखा गया था। १६
वैश्वदेव के अंत में उसे भोजन अवश्य मिलेगा। घर के निर्माण में राहत के लिए यज्ञ किया जाएगा और यह आपका भोजन होगा। १७

यज्ञोत्सवादौ च बलिस्तवाहारो भविष्यति । वास्तुपूजामकुर्वाणस्तवाहारो भविष्यति ॥ १८
अज्ञानात् तु कृतो यज्ञस्तवाहारो भविष्यति । एवमुक्तस्ततो हृष्टः स वास्तुरभवत् तदा ।
वास्तुयज्ञः स्मृतस्तस्मात् ततः प्रभृति शान्तये ॥ १९
अर्थात – बलि और त्योहारों के दौरान बली आपका भोजन होगा। यदि आप वास्तु की पूजा नहीं करते हैं, तो आपको खाना पड़ेगा। १८
परन्तु अज्ञानवश किया हुआ यज्ञ तेरा भोजन ठहरेगा इस प्रकार संबोधित करते हुए वास्तुकार प्रसन्न हुआ तभी से शांति के लिए वास्तु यज्ञ मनाया जाने लगा। १९

ये है वास्तु देवता की उत्पाती की कथा।


Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!