GA4

संघ से सतर्क हो……! अवतार के विरुद्ध जाने वाला संगठन हिंदुत्वधारी कैसे हो सकता है? @bhadoria_pratap

Spread the love

यथार्थ (@bhadoria_pratap) की कलम से। आरएसएस को जिस प्रकार से मुसलमानों का सपोर्ट मिलता है उतना औवेसी को भी नहीं मिलता है। हो सकता है यह आपको आश्चर्यजनक लगे लेकिन यही सत्य है।
आरएसएस राम को इमाम बनाता है। क्या कोई हिंदुवादी संगठन ऐसा कर सकता है? संघ से सतर्क रहें।



यदि हिंदु ही लक्ष्य है तो हिंदु अवतार के विरुद्ध जाने वाला संगठन हिंदुत्वधारी कैसे हो सकता है?
यही आप देखिए आरएसएस का प्रमुख शिवलिंग और महादेव पर हिंदुओं को डांटता है, और षड्यंत्र करके काशी ज्ञानवापी शिवलिंग की मांग को समाप्त करवा देता है? क्या कोई हिंदु संगठन ऐसा करेगा?



इस्लाम से अपना डीएनए मिलाने की बात संघ प्रमुख करते हैं। और नमाज के लिए दरी और नाश्ता पानी संघ के संगंठन उपलब्ध कराते हैं। यह क्या हिंदुत्ववादी संगठन करेंगे? जहाँ एक जाकिर नायक कतर में मुख्य अतिथि बन जाता है, वहीं संघ अपने यहाँ शिवलिंग का अपमान करने वाले जिहादी आतंकियों पर एक शब्द नहीं बोलता है। क्या हिंदु संगठन ऐसा कर सकता है?

आरएसएस को मात्र मुसलमानों की ओर से ही हिंदुवादी सिद्ध किया जाता है अन्यथा आरएसएस किसी भी ओर से हिंदुवादी नहीं है। और जैसा बिलावल भुट्टो ने आरएसएस का नाम लिया है, इसका अर्थ है कि आरएसएस, आईएसआई के साथ मिलकर कुछ गेम प्लान कर रही है।



आरएसएस का एक मात्र लक्ष्य पेशवा बाजीराव बल्लाड़ को स्थापित करके अपने को विश्व रीलीजियस फोरम की बैठकों में एक पार्टी बनने तक का है। बाकी ना उसे हिंदु से कोई लेना- देना है, ना ही भारत से, और न ही भारतीयों से।


Share
error: Content is protected !!